रविवार, 29 अगस्त 2021

आदतन

आस्था


आदतन
हम सभी 
बहरूपिये हैं
रोज अलग - अलग 
वेशभूषा में ...
रहते हैं फिरते
इधर - उधर
कोई भूख के लिए 
बन जाता है याचक
तो कोई चोर बन
छीन लेता है
अपने हिस्से की भूख
स्वयं को बेच कोई
बन जाती है
देह की व्यापारी
और फिर पका लेती है
अपने हिस्से की रोटी
कोई रंग बिरंगी पोशाक पहन
पा लेता है ... बाँटकर
अपने हिस्से का सुख
आदतन हम
रोज ... बनते बिगड़ते हैं
आदतन हम
बहरूपिये ही तो हैं

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें