रविवार, 29 अगस्त 2021

वक्त

सरला मेहता


वक्त वक्त की बात है यारों
कभी घी घना तो कभी मुट्ठी भर चना
वक्त से पहले व किस्मत से ज़्यादा
ना किसी को मिला,ना ही मिलेगा।
यह नचाता इंसान को कठपुतली सा
महल के राजा को रंक बना देता
एक रोड़पति, करोड़पति बन जाता।
सीता वनवासी व सुदामा राजा
वक्त को कस कर थामे रहो
रमी के खेल में सही पत्ता चुनते रहो
करने से ही कुछ हांसिल होता है
कोशिश करने वालों की हार नहीं होती
समय मौसम उम्र हिसाब से आते हैं
वक्त का गणितीय सूत्र बड़ा क्लिष्ट है
इसका हल कोई खोज नहीं पाया
वक्त है कम व लम्बी है मंजिल
ए मुसाफ़िर तेज़ कदम चलना होगा
तपस्या के पथ पर, विराम नहीं देना 
साथ चलने वालों का साथी बन जाना

इंदौर

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें