सोमवार, 31 मई 2021

कमाल है भाई

प्रेरणा गुप्‍ता

          पति -पत्नी में बड़ी जोर का झगड़ा हुआ। जोर - जोर की चीखा - पुकारी से पति को हृदयघात पहुँच गया और वह उसी पल चल बसा। खबर पाते ही रिश्तेदार आ पहुँचे। उसकी मृत्यु का कारण जानते ही सभी उसकी पत्नी को दोषी ठहराने लगे। पत्नी वैसे ही पति के जाने के गम में अधमरी हुई जा रही थी, ऊपर से एक और ये सदमा बर्दाश्त न कर पाई। थोड़ी ही देर बाद वह भी हृदयघात से चल बसी।
           ऊपर पहुँचकर जब उसने मरे हुए लोगों की पंक्ति में अपने पति को खड़ा देखा तो वह उसे आवाज देकर पुकारने लगी - अजी सुनते हो! जरा इधर तो देखो।
           आवाज सुनते ही वह फौरन मुड़कर देखने लगा - '' अरी भाग्यवान! तुम यहाँ कैसे?''
पत्नी ने सारी आपबीती सुना दी।
          सुनकर पति को रिश्तेदारों पर बहुत गुस्सा आया। मगर तभी यमराज के सामने पेशी के लिए उसका नम्बर आ गया। उसकी पत्नी को भी उसके साथ ले जाया गया।
          चित्रगुप्त से दोनों के कर्मों का लेखा - जोखा सुनने के बाद, यमराज ने उन दोनों को नर्क भेजने का फरमान सुनाया। सुनते ही पति - पत्नी जोर - जोर से गुहार लगाने लगे - अरे! हमने तो अपने जीवन में एक चींटी तक न मारी, तो फिर ये नर्क का द्वार काहे को?
            चित्रगुप्त ने उन्हें समझाते हुए कहा - लेकिन तुम दोनों ने अपना सारा वैवाहिक जीवन सिर्फ लड़ने - झगड़ने में खपा दिया। अपनी आने वाली पीढ़ियों के सुखमय जीवन के लिए कोई सीख छोड़ी क्या? चलो, अब सजा भुगतो।
            नर्क में पहुँचकर पति को चालीस मन आटा गूँथने और पत्नी को कुएँ से पानी भरने का हुक्म सुनाया गया।
सुनते ही पति फिर गुहार लगाने लगा - अरे साहेब, मेरी पत्नी की हालत देख रहे हैं। वैसे ही घर का कामकाज कर - कर के अधमरी हो गई है। अब मरे को और तो न मारिए।
            उधर पत्नी भी रोने - कलपने लगी - अरे मालिक, हमारे पति को तो एक गिलास पानी तक खुद लेकर पीने की आदत नहीं है। भला वह इतना सारा आटा कैसे गूँथेंगे?
            चित्रगुप्त हैरान हो यमराज की ओर देखने लगे - देख रहे हैं महाराज! जीतेजी तो दोनों एक दूसरे के खून के प्यासे थे और अब मरने के बाद  इनका परेम जागा है।
           यमराज ने अपना माथा ठोंक लिया - उफ्फ ! ये मियाँ - बीबी की लड़ाई, कमाल है भाई।

 कानपुर

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें