रविवार, 23 मई 2021

योग्यता के जांच

कुबेेेर 

          भोलापुर के राजा ह एलान करिस - ’’इहां के सब मास्टर मन भोकवा अउ लेदरा हवंय। न पढ़े बर जानंय, न पढ़ाय बर। विही पाय के इहाँ के पढ़इया लइका मन घला भोकवा अउ लेदरा हो गे हें; होवत जावत हें। कलेक्टर, डाक्टर, इंन्जिनियर, साहब, बने के तो बाते ला छोड़ दे, इहाँ कोनों लइका ह चपरासी बने के लाइक घला नइ हे। विही पाय के अब हम परदेस ले कोरी-खरिका, बने-बने पढ़े-लिखे, सीखे-सोधे मास्टर लान के, मास्टर मन के जम्मों खाली जघा म वोमन ला बइठारबोन। सब स्कूल मन ला ऊँकरे हवाला करबोन, अउ इहाँ के जम्मों लेदरा-पदरा गुरूजी मन ला कान पकड़ के गेटाउट करबोन।’’
          राजा ह मनेमन डर्रावत रिहिस, कहूँ ये फैसला ला सुन के राजभर मा गड़बड़ी झन मात जाय। हड़ताल-प्रदर्शन के   रहिद झन मात जाय; फेर वइसन कुछुच् नइ होइस। राजा हा चैन के साँस लिस। सिंहासन के पाया मन ल निहर के टमड़िस, देखिस, पहिली ले जादा मजबूत लागिस। अपन भौं मन ला हलाइस, आँखीं मन ला बड़े-बड़े छटकारिस, अउ टेड़गा हाँसी हाँस के मनेमन किहिस - ’इहाँ के जम्मों साले मन लेड़गा अउ कोंदवच् नइ हें, अंधरा अउ भैरा घला हें।’
          दूसर दिन वोकर एक झन भेदिया ह आ के वोला चुपचाप बताइस - ’सरकार! मरहा राम ह थोरिक अँटियावत हे। इहाँ के पढ़े-लिखे लइका मन ल भड़कावत हे। लइका मन ल सकेल के हड़ताल करइया हे।’
राजा ह सोचिस, नानचुक चिंगारी ह घला जंगल के आगी बन जाथे। रमंज के तुरत-फुरत बुझा देना जरूरी हे। किहिस - ’जब देखो तब, ये साले मरहाच् राम ह काबर जादा अइंठथे रे। एकोदिन वोकर अकड़ ल बने असन टोरव तो। जावव अउ अभिचे वोला धर को लानव, पूछबो साले ल, काबर वो ह अतिक अकड़थे।’
राजा के सिपाही मन मरहा राम के गजब खातिरदारी करत वोला राजा के आगू हाजिर करिन। मरहा राम ह अपन दू-चार संगवारी मन ल घला सकेल के लाय रहय। सबो झन ल बढ़िया गदिया वाले कुरसी म बइठार दिन। महर-महर करत नास्ता-पानी परोस दिन। वो मन म कोनों घला ह अइसन कुरसी म बाप-पुरखा बइठे नइ रहंय; अइसे लगिस मानो जमीन म धंसत हें का। मरहा राम ह कहिथे - ’नरक म धंस जाबो का रे। ये ह कुरसी आय के नरक के दुवार आय?’ संगवारी मन ह सबो झन नास्ता झड़के म मगन रहंय; मरहा के बात ल सुन के ’हें, हें’ कर दिन।
राजा ह आइस, जय-जोहार होइस, चहा-पानी के बात पूछिस, निकता-गिनहा के बात होइस तब राजा ह कहिथे - ’मरहा राम! तुँहर गाँव के रामायन प्रतियोगिता के गजब सोर सुने हंव जी। जाय के अड़बड़ इच्छा होथे, फेर तुमन तो कभी नेवताच् नइ पठोवव भाई। एसो अउ बने धूमधाम से होना चाही। खर्चा-पानी के फिकर झन करना। येदे साहब खड़े हे न, जावत-जावत येकर डायरी म लिखा देहव। चाँऊर-नून बने मिलत हे के नइ? एसो अकाल पड़ गे हे, राहत कार्य के जरूरत पड़ही। कतका होना, वहू ल लिखा देना। तोर संग अभी जतका आय हें न, ये बाबू मन ह, सब पढ़े-लिखे हें तइसे लागत हे। उहाँ ये सब झन ल मेट अउ टाइमकीपर बना देबोन। अउ कुछू बात होही तब सीधा मोला फोन करबे। लेव अउ आहू।’
          मरहा राम ह सोचिस, ये तो हमला कुकुर समझत हे। बात ल कहाँ ले कहाँ घुमावत हे। रोसिया के किहिस - ’करइया मन ह करावत होहीं जी, हमूं मन कराथन रामायन प्रतियोगिता। हमला इही बात करे बर बलाय हस का? बाहिर के आदमी ल सरकारी नौकरी देवत हस, हमर ये लइका मन घला पढ़े-लिखे हवंय, ये मन कहाँ जाहीं तउन ल बता?’
           राजा तीर सबके जवाब रहिथे, सब जवाब रहिथे, मरहा राम ल समझाइस - ’तोर बात ह सही हे जी मरहा राम, यहू लइका मन पढ़े-लिखे हवंय, जउन मन पढ़ावत हें तउनो मन ह पढ़े-लिखे हें, हमू ल पता है, फेर हमला जउन योग्यता के जरूरत हे, इंकर मन तीर नइ हे, विही पाय के हम दूसर कोती के आदमी मन ल भरती करत हन।’
          मरहा राम ह किहिस - ’जउन कोती के आदमी मन ल बलावत हस, वोमन कइसे नकलमारी करके परीक्षा पास होथंय, समाचार म हमू सब देखथन। बाहिर के मन इहाँ आ के इहाँ के मन ल कइसे लूटथें, वहू ल देखत आवत हन। ये लइका ह गणित पढ़े हे, ये ह विज्ञान पढ़े हे, का ये मन हा नौक्री के लाइक नइ हें?’
          राजा ह किहिस - ’तोर बात ह सही हे जी मरहा, अतका देख-सुन के घला तुंहला परीक्षा पास करे के अकल नइ आइस। कोन ह धरे-चपके हे तुहंर हाथ ल? रहि गे तोर संग म आय ये लइका मन के बात, इंकर योग्यता ल जांचे बर मंय ह इंकर ले सवाल पूछत हंव। सही जवाब दे दिहीं ते अभी इंकर नौकरी पक्का कर देहंव।’
मरहा राम ह किहिस - ’अंतेतंते पूछ के फेल करे के उदिम झन कर जी, हमला सब पता हे।’
          राजा ह किहिस - ’अंतेतंते काबर पूछबोन जी, सोज अउ सरल जोड़-भाग के सवाल हे। दू झन हें, दूनों बर एक-एक सावल पूछत हंव। सवाल नंबर एक येकर बर - ’तोर तीर दस ठन आमा हे, पाँच ठन ल कोनों ह नंगा के भाग गे, तोर तीर कतका आमा बाचही? सावल नंबर दो येकर बर - तोर तीर दस ठन आमा हे, एक झन कोनों दूसर संगवारी संग बराबर बाँटना हे, तोर भाग म कतका आमा आही? बने सोच के बतावव।’
         सवाल सरल रिहिस - पहिली संगवारी, जेकर नाम लखन रिहिस, किहिस - ’पाँच आमा।’ दूसर सवाल के जवाब ओम प्रकास ह दीस - ’पाँच-पाँच आमा।’
          राजा ह माथा धर के बइठ गे। किहिस - ’दिख गे तुँहर योग्यता ह। इही कारण हमला दूसर कोती के आदमी बलाय बर पड़त हे मरहा राम। सुन डरेस?’
        मरहा राम ह किहिस - ’बने तो बताइन हे, अउ का जवाब दिहीं जी?’
       राजा ह कहिथे - ’कस जी! तुँहर चीज ल कोनों ह चोरी करके भागही, कोनों ह सेतमेत म तुँहर चीज के बँटवारा मांगही, अउ तुम वोला सहज म दे देहू? वोला धर के रहपटियाहू नहीं? वोकर हाथ-गोड़ ल नइ टोरहू? आज तो तुम सब फेल हो गेव। तुँहला कोनों नौकरी नइ मिल सकय। कोनों दिन अउ सवाल पूछहूँ, बने तियारी करके आहू। जावव! तब तक गोहगोहों ले चाँऊर-नून खावव अउ रामायन प्रतियोगिता के तियारी करव।’
000

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें