रविवार, 21 फ़रवरी 2021

प्यासी धरती पर

त्रिलोक महावर


प्यासी धरती पर
गिरती पसीने की बूँदें
पूछती हैं साँवली लड़की से
नदी का अता - पता


हैरान लड़की लिखना चाहती है
रिपोर्ट गुमशुदा नदी की
जो बहती थी
पिछले साल तक


लड़की परेशान है
पानी के बग़ैर
सनेगा कैसे मकई का आटा
देगची में कैसे पकेगी दाल


चावल पड़े हैं
बग़ैर धुले हुए
दादी ने अभी तक नहीं लिया है
चरणामृत


माँ ने दिया नहीं अभी तक
अर्घ्य सूर्य को
और तुलसी के बिरवे को पानी


श्यामा गाय प्यासी है
तीन दिन से नहीं लिपि है झोंपड़ी


सोचते - सोचते
अभी से सयानी हो गई
ग्यारह साल की लड़की।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें