सोमवार, 22 फ़रवरी 2021

जब माँ मिट्टी हो गई

नरेन्द्र कुमार कुलमित्र

मैंने रोया था उस दिन जी भर के
जब निकली थी घर से तुम्हारी अर्थी
लोग मेरे आँसू पोंछते रहे
ढाँढस बंधाते रहे
समझाते रहे कि
चुप हो जा बेटा
आखिर जाना ही पड़ता है एक दिन सबको
मिट्टी की इस काया को मिट्टी में मिलना ही है
मैंने पुस्तकों में पढ़ा था
पाँच तत्वों से मिलकर बना नश्वर है यह शरीर
मगर मुझे उस मृत देह में 
मिट्टी नहीं केवल माँ नज़र आती थी
मुझे बचपन में माँ समझाती थी कि
मिट्टी माँ होती है
वही हमें पालती - पोसती है
रोज सुबह मिट्टी को प्रणाम किया करो
मिट्टी माँ होती है
इस दर्शन को तब नहीं समझ सका था
सोचता था मिट्टी और माँ में भला कैसा साम्य ...?
समझा उस दिन 
जब माँ सचमुच मिट्टी हो गई।

9755852479

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें