रविवार, 21 फ़रवरी 2021

जेकर हाथ मा हावै सियानी

बलदाऊ साहू

जेकर   हाथ  मा  हावै  सियानी।
करथे  जी  उन गजब  मनमानी।


जम्मों झन अपन भरत हे कोठी
हरिश्चन्द्र  कस  कौन हावै दानी।


पोथी - पतरा ला पढ़ के उन मन 
बन के  बइठे हे अड़बड़  ज्ञानी।


कतको नकटा मन नाक कँटावै 
उनला  कब्भू  नइ  लागे  बानी।


जब किसान मन के होही सोसन
काबर करही जी खेती किसानी।


जब भेद ह खुल जाही तब संगी 
इज्ज्ज़त  हो जाही चानी - चानी।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें