शनिवार, 20 फ़रवरी 2021

चंदा अउ सुरुज

बलदाऊ राम साहू

          कई हजार साल पहली के बात होही। जब धरती अउ अगास एके संग राहय। सुरुज अउ चंदा संगे - संग राहय। संगे - संग गोठ - बात करैं। चंदा हर जातका सिधवा राहय,सुरुज हर ओतका अतलंग। चंदा हर सब ल सुख देवय तब सुरुज हर गजब तपय। सुरुज के अतलंग बेवहार ले चंदा घलो तंग आ गे राहय। काबर सुरुज हर काकरो बात ल मानय नहीं,न कौनो ल घेपय। सुरुज ले जादा तो ओकर लइका मन अतलंग राहय। सब मिल के अइसन तपय कि घरती अगास के सबो रहवासी जीव मन बियाकुल राहय। सब झन चंदा गोहराय। चंदा भाई सुरुज ल चिटिक समझा देकर, येकर अतलंग बेवहार मा हमन कइसे जिनगी जिबोन।
         तब चंदा हर कहिस - काकरो कहे - बरजे ल मानही तब्भे तो कुछू कहिबे। सुरुज हर एक सुर्री रेंगथे। फेर तुमन कहत हौं, तब मैं ओला बरज के देखहूँ।
           समय देख के चंदा हर एक दिन सुरुज ल समझाइस। फेर ओहर नइ मानीस। तब चंदा हर एक तरकीब सोचिस। ओ हर एक दिन सुरुज के आगू मा सरत राखिस। चंदा कहिस - कौन अपन लइका मन ल जादा बेर ले मुँहू मा दबा राख सकत हे। जउन जादा बेर ले अपन लइका मन ला अपन मुँहू मा दबा के राखही ओ हर सरत जीतही। अउ जउन हारही ओहर जीतही तेकर कहिना ला मानही।
           सुरुज चंदा के सरत ल मान लिस। दुनों झनी अपन - अपन लइका ला अपन मुँहू मा दबा के राखीस। थोर देर के बाद सुरुज के मुँहू जरगे लागिस। धीर लगा के एक एक झन लइका ओहर गटकत गिस अउ धीरे - धीरे अपन सबो लइका मन ल गटक डारिस। थोर देर के बाद चंदा हर सुरुज ल कहिस - चल अब अपन - अपन लइका ल निकालबोन। सुरुज हर अपन सबो लइका मन ल लील डारे रहिस। पेट ले कइसे निकाले। सुरुज अपन लइका नइ निकाल सकीस। चंदा अपन जम्मों लइका चंदैनी मन ला पूरक दिस। जम्मों अगास मा चंदैनी मन चूक - चूक ले बगर गे। सुरुज अपन सरत हार गे। तब चंदा हर कहिस - सरत के मुताबिक तैं हर दिन मा रहे करबे अउ रात मा मैं हर रहे करहूं, अपन लइका मन ल लेके। तब ले सुरुज दिन मा आथे अउ रात मा चंदा हर।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें