सोमवार, 22 फ़रवरी 2021

स्वागत है मधुमास

नज़्म सुभाष

छुअन प्रेममय देह की,झंकृत दिल के तार
निखरी सुर्खी गाल  पर, नैंनो से उद्गार
चुनर लाज की कर रही, असमंजस के प्रश्न
रहे काँपते लब सिले, मौन हृदय में जश्न
खिली देह से झर रही,मादक मादक गंध
उखड़ी साँसे तोड़ती,संयम के अनुबंध
हृदय विरह की अगन में,धधके सुबहोशाम
संचित यादें इनदिनों, छेड़  रहीं संग्राम
पियरी - पियरी ये धरा,नीला है आकाश
कोयल कुहुकी बाग में,स्वागत है मधुमास

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें