रविवार, 12 जनवरी 2020

गीता गुप्ता 'मन' की गीत एवं गजलें

आओ मेघा
निज पात सजाये डगर डगर
कब आएगा सावन जल भर
है स्वागत को चहुँ वृक्ष खड़े
आओ मेघो बरसो झर झर।


स्वच्छन्द अनिल है डोल रही,
कोकिल  है मधुरस घोल रही।
है झूम रही  शाखा शाखा
दरवाजे प्रीति के खोल रही।
नीलाभ धवल श्यामल अम्बर
चमके द्युति.. मेघ चले जल भर
आह्लादित है कण कण तन मन
है विटप झूमते भीग भीग कर।
सुरभित हो मृदा सुवास रही
जीवन में भरती आस रही
वसुधा का आँचल हो पवित्र
प्रकृति नव विन्यास  रही।
शोभित तरुवर हो स्वच्छ विमल
तृण धारण कर श्रृंगार अमल
बूँदों के मोती से जग को
रहा निखार ये वर्षा जल।
2  ग़जल
मेरा इकरार भी तुम
मेरा इनकार भी तुम।
मेरी पलकें जो करती
झुका इजहार भी तुम।
सुकूँ बनकर जो आया
मेरा इतवार भी तुम।
जमीं का बाशिंदा हो
गगन के पार भी तुम।
खुदा तुम हो सनम हो
मेरी दरकार भी तुम।
ख़ुशी की ख्वाहिशें बन
मिले हर बार भी तुम।
लबों पर नाम है 'मन'
कहो ना प्यार भी तुम।
स्वरचित
गीता गुप्ता 'मन'
ग़जल
खुशी की आरजू बनकर ,
महक सी फ़ैल जाती है
न डरती है किसी से वो ,
हमेशा मुस्कुराती है।
न होती माँ अगर जग में,
अंधेरा भी घना होता।
जहाँ में रौशनी भरने
दिये सी जगमगाती है।
मनाती रोज रोजे है,
हमारी भूख की खातिर
जमीं की इस खुदा है वो,
हमें जीना सिखाती है।
कभी बेटी कभी माँ है,
सनम है प्यार  का सागर
बनाकर जिंदगी प्यारी  ,
दिलीरिश्ते निभाती है।
घरौंदा इक बना दिल का
, सजाकर प्यार से रखती
मेरी खुशियों की खातिर
वो तो हँसना भूल जाती है।
पता 
गीता गुप्ता 'मन'
पता :- गीता गुप्ता 'मन'
c/oमनीष कुमार
सी पी सी न्यू हैदराबाद पोस्ट ऑफिस भवन
लखनऊ
पिन-226007
ईमेल :-    geetagpt875@gmail. com

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें