शुक्रवार, 13 दिसंबर 2019

दुःख का सागर मानी दुनिया लोगों में अपवाद हुए



 बलजीत सिंह बेनाम

दुःख का सागर मानी दुनिया लोगों में अपवाद हुए
मन को पावन कर के गौतम ख़ुद से ही आज़ाद हुए


चाहत की यह धारा तो बहती आई है युग युग से
लैला मजनूं सस्सी पुन्नू चाहत कर दिलशाद हुए


शायर सुनते लिखते पढ़ते मिलते थे उस्तादों से
कुछ चेलों ने गुर सीखे वो आगे चल उस्ताद हुए


रब की मर्ज़ी को ही सब कुछ मानेंगे ग़म के मारे
ग़ैरों पर ममता वारेंगे क्या गर बेऔलाद हुए


दिल से दिल की भाषा को ख़ामोशी की दरक़ार बहुत
होंठों को सिल ही जाने दो नैनों में सम्वाद हुए






लेखक परिचय 

      जन्म तिथि:23/5/1983
       शिक्षा:स्नातक
        सम्प्रति:संगीत अध्यापक
        उपलब्धियां:विविध मुशायरों व सभा संगोष्ठियों में काव्य पाठ
विभिन्न पत्र पत्रिकाओं में रचनाएं प्रकाशित
विभिन्न मंचों द्वारा सम्मानित
सम्पर्क सूत्र: 103/19 पुरानी कचहरी कॉलोनी, हाँसी
मोबाईल नंबर:9996266210

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें